About Me

Jayanti Jain
Jayanti Jain

जयन्ती जैन उदयपुर के पास एक छोटे-से गांव शक्तावतों का गुड़ा में पैदा हुए। उन्होंने जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली में अध्ययन किया।
वर्तमान में आप राजस्थान सरकार के वाणिज्यिक कर विभाग में उपायुक्त हैं। आप राजस्थान व जम्मू कश्मीर सरकार के वैल्यू एडेड टैक्स प्रशिक्षक भी हैं।
विद्यार्थी जीवन से ही आप स्वतन्त्र रूप से लेखन कार्य करते रहे हैं। राष्ट्रीय स्तर की पत्र-पत्रिकाओं में आपके अनेक लेख छप चुके हैं। इस विधा में लिखी गई पुस्तकों में आपकी कृति ‘‘उठो! जगो! लक्ष्य की प्राप्ति तक रूको नहीं!’’ अपना स्थान निरन्तर बनाती जा रही है।
आपने इस पुस्तक के लेखन के क्रम में लगभग सात हजार पुस्तकें पढ़ी हैं और आठ सौ पृष्ठ लिखे।
आजकल आप विभिन्न शैक्षणिक एवं सामाजिक संस्थाओं द्वारा आयोजित सेमीनार के माध्यम से युवकों, अधिकारियों व उद्यमियों को प्रोत्साहित कर उनके जीवन में बदलाव लाने में प्रयत्नशील है।

मैं वाद व संस्था से दूर हूँ। तथाकथित धर्म,षास्त्र,गुरू व भगवान की सत्ता से मुक्त हूंँं।पन्थ व जातिगत समाज मंे ंनही हूँ। क्षेत्र व देष मुझे नही बांधते हैं।


51 विचार “About Me&rdquo पर;

  1. सादर नमस्कार,

    आपका ब्लॉग पढ़ा। अत्यंत प्रेरणास्पद लगा। हमारे ब्लॉग पर आए और अपनी अमूल्य टिप्पणियां दर्ज करें।

    साकेत सहाय
    http://www.vishwakeanganmehindi.blogspot.com

  2. बहुत ही सुरूचिपूर्ण और प्रेरणास्पद लेखिनी है आपकी, विषय भी उपयोगी चुनते है, एक साधारण पाठक के अधिकार से आपसे सतत लेखन की अपेक्षा रखता हूँ. शुक्रिया…

  3. जान कर सच में ख़ुशी हुई कि आप हिंदी भाषा के उद्धार के लिए तत्पर हैं | आप को मेरी ढेरों शुभकामनाएं | मैं ख़ुद भी थोड़ी बहुत कविताएँ लिख लेता हूँ | हाल ही में अपनी किताब भी प्रकाशित की | आप मेरी कविताएँ यहाँ पर पढ़ सकते हैं- http://souravroy.com/poems/

  4. Dear Sir, bahot hi accha likhte hai aap. Aapke blogs ko padhkar mujhe itni prerna, shakti aur mann mein vishwaas jaag uthta hai aisa lagta hai k agar manushya himmat aur mehnat kare to sub kuch haasil kar sakta hai. Aur apne aatmvishwas k sahaare sub kuch praapt kar sakta hai. Sir ho sake to mujhe aatmvishwas aur tanaav ko door karne k liye kuch upaai bataai. Aapke saath sadaiv haamari shubkaamnai…

  5. sir jayantiji namaskar
    mane app ke jyotish-gyan ke barey may comments padray. app ne keha ha ki jyotish pakhand ha.ya bhavisya-vaniya niradhar hoti ha. jyotish ek praker se math ha. ganna ke adhar per hi bhavisya bola jatta ha. appne jankari layna chaty ha ki ek samay may eitnay saray vykatiyo ke maritu kasey ho jatee ha. chahey plain durgatna may ya bukamp jase apdao se. DYAN DO HAMAREY SANSAR MAY KITNAY PERSENT LOG HA. JO APNI JANAM-KUNDLI KE JANKARI APNAY JIVAN-KAL KAY SAMAYE MAY KISI VIDHVAN JYOTISHI SE SATYE VA SHAI JANKARI PRAPT KARTEY HA. SANSAR MAY SYAD EK YA DHO PERSENT BAS ABI SYAD ES SE JAYDA NAHI. KITNAY LOG HA JO APNI JANAM-KUNDLI KE JANKARI LAY KAR PLAIN MAY YATRA KARTY HA. PLAIN KA TICKIT THO HAJARO RUPAY KA LAY LATHY HA. LAKIN JYOTISHI KO TO 100/- RUPAY BE BE DAYNAY KA MANN NAHI HOTA. AUR DURGATNA KE BADH SANSAR SE CHALAY GYE VYAKTIYO KE FIR KOI BAAT HI NAHI KARNA CHAHTA. AKIR FIR SATYE KASE DUNDAY. WASAY TO SANSAR MAY JANAM LAY KAR AYE VYAKTI KE NA TO EK SE KNDLIYA HOTI HA. AUR NA HI EK SE SAKAL HOTI HA. JYOTISH EK BAHUT HI JATIL-GAYAN HA. ES KE SCHAI SUNNAY KE LIYE PHALLE MAAN-ATMA MAY TAKAT BE HONI CHIYE. JYOTISH-GYAN AAM VYAKTIYO KE GYAN KA VISAY NAHI HA. JYOTISH-GYAN JIGAYASU VA JO LOG SAHI MAYNAY MAY APNAY BARAY MAY JIVAN-KAL KAY SAMAYE KE JANKARI LAYNA CHAHTAY UN KE LIYE YAH JYOTISH HA. BAKI SANSAR MAY JIS NAY JANAM LIYA HA.US KO KISI NA KISI BHANAY TO SANSAR SE JANA HI HA. CHAHAY PLAIN DURGATNA SE YA SAKRO PARKAR KE KIRYO KAY DAWARA. JIVAN KA ANTT AKIR TO NISCHIT HA. ABB MA APP KO JYOTISH-GYAN KA EK CHOTTA SA EXAMPEL THAY RAHA HU PLAIN DURGATNA MAY UN SABI VYAKTIYO KA MANGAL-GRRA KAY HISAB KO CHECK KARNA PARAY GA. JYOTISH-GAN KAY HISAB SE MANGAL-GRRA ACCIDANT KA KARAK MAANA JATTA HA. AUR RAHU AUT KETU GRRA ACHANAK PARISTETHEYO KO PALAT DANAY WALE GRRA MANAY JATAYHA. JYOTISH-GYAN EK VISHAL GYAN HA. ESAY SIKNA ASAN NAHI. YADI SIKH BE JATTA HA KOI FIR US KO KISI VYAKTI KO JYOTISH-GYAN KEHNA BE ASAN NAHI. APP BE JYOTISH-GYAN SIKHNAY KE KOSIS KARAY.PRANTU PHALAY APNI JANAM-KUNDLI KISI DEVAGAY-JYOTISHI KO JARUR DIKHYE KI JANAM-KUNDLI MAY JYOTISH-GYAN SIKHNAY KE VA JANNAY KE KLAA HAYA NAHI. SANSAR DUKHO VA KSTOO SE BRAA PRADHA HA. LOG BHUT SE JAGAHO PER BE JATAY HA.DRAMIK-PLACES PER BE JATAY HA. WA HA PER BE KON SE SAB KE MANTATAY PURI HO JATTI HA UN KAY BARAY MAY APP KA KYA KEHNA HA. LOG BARAY-BARAY HOSPITLO MAY ELAJ KE LIYE JATAY HA. PRANTU BHAUT SARA DHAN LAGANAY KE BADH BE JINDA BACH KAR NAHI ATAY ES PER BE APP KYA DOCTER KE KABILIYAT PER KUCH KHAY GAYE YA KASAY SABDO KA PRAYOG KARAY GE. JYOTISH KO DYAN SE JANAY VA SAMJAY . JITNA BARA BRAMAND HA UTNA BARA HI JYOTISH-GYAN HA……….
    FROM: RAKESH MEHRA JYOTISH MAHARAT
    http://www.rakeshmehrajyotishmaharat.co.cc

  6. MASSAGE: ANAY WALA TIME ABB JYOTISH GYAN KA HA. JYOTISH-GYAN EK PRAKER SAY JIVAN KI JANKARI HA. ITNAY BARAY SANSAR MAY JANKARI LAY KER CHALNA APNAY JIVAN KAY BARAY MAY KON SE GHALT BAAT HA. JYOTISH GYAN AAM VYAKTI KAY LIYE NAHI HA. JYOTISH GYAN SHURU SAY HI RAJA-MAHARAJA-VABAVSHALI-SAMRIDIVAN VA GYANVAN … JAISO KAY LIYE HI HA. MANN LO SURYA BI EK GRHA HA. US KI CHAMAKDHAR KIRNO KI ROSHNI SAB PER PERTI HA. PRANTU SAB KA JIVAN TO ALAG-ALAG HISAB SAY CHAL REHA HA SANSAR MAY AISA KYO ESKI JANKARI JYOTISH SAY MILAY GI. SANSAR MAY REHNAY KAY LIYE KISI KAY PASS EK BI MAKAN NAHI MILTA AUR ASI BI HA.JO SARI UMER KOSIS VA JAISE CHAHAY KAMAI KERKAY BI JINDGI MAY KISI BI PRAKER SAY KAM -YAB NAHI HOTAY . AUR KAI VYAKTIO KAY PASS VIRASAT MAY KAI MAKAN -DHAN – DULAT SARI UMER BARSTI HA. DIGRI HATH MAY HA. AUR KAHI BI NUKARI LEGTI NAHI HA. SUNDER HA. VA SUNDARI SHADI HOTI HI NAHI HA. TO ES PRAKER KAY BHUT SEE JANKARIYA PRAPT HO SAKTI HA. JYOTISH -GYAN KAY DAWARA . KYA PEHLAY HUM MEDICAL SCIENCE KO JANTAY THAY. KYA PEHLAY HUM COMPUTER SYSTEM KO JANTAY THAY.AUR BI BHUT SAY SYSTEM HAMARAY JIVAN MAY ENTER KER CHUKAY HA. AUR ESE PRAKER JYOTISH BI ABB ENTER KER CHUKA HA HAMARAY JIVAN MAY . HAMAY SUNDER JIVAN JINAY KI JANKARIYA DYANAY KAY LIYE. UTHO-JAGO TIYAR HO JAO ABB JYOTISH-GYAN SANSAR MAY EK NAYA SURAJ BAN KER AYA HA. JYOTISH-GYAN DAWARA JIVAN MAY SUNDER SANSKAR DHARAN KER KAY SUNDER KERMO APNANA HA. MITT JAYE GA VA LUPT HO JAYE GA FIR PRITVI-LOK SAY JOOTH – BRASTACHAR-HINSA KA FIR JO CHAL REHA HA. TANDEV- NRITYA.JYOTISH GYAN CHAKER HI PRATEK VYAKTI KI ATMIK SUDHI KER SAKNAY KI PURAN SHAKTI RAKHTA HA. PEHLAY JANO FIIR BADH MAY MANO.[ MANO TO MA GANGA-MA HU NA MANO TO MA BEHTA PANI ]
    RAKESH MEHRAJ YOTISH MAHARAT

  7. आप के सोच, सम्वेदना, और लक्ष्य को कोटिशः नमन.
    आज के आपा धापी के दौर में इस तरह के जनोपयोगी और सामयिक ब्लॉग की अत्यंत आवश्यकता है. कृपया निरंतरता बनाये रखे.
    शुभकामनाओ सहित …

  8. आदरणीय जैन साहब सादर प्रणाम ; मैंने आज आपकी – आत्म विश्वास कैसे जगाएं एवं असाध्य रोगों का सामना कैसे करें , पढ़ी ; बहुत अच्छा लगा , आपने कम शब्दों में सभी सार्थक बातें लिखी हें ; मैं भी इन्ही बातों का प्रसार करता रहा हूँ ; मैं आपको वृन्दाबन आमंत्रित करता हूँ ; आप सपरिवार आयें ; जन कल्याण हेतु किसी अच्छी गोष्ठी / सेमिनार का आयोजन किसी संस्थान में रख लेंगे.

    1. thanks,my new book
      Leave a comment
      मेरी आने वाली पुस्तक ‘तनाव छोड़ो ,सफलता पाओ’ के बारे में

      तनाव छोड़ो ,सफलता पाओ
      तनाव कम करने पर यह सम्पूर्ण पुस्तक है जिसमें 16 उपाय तनाव कम करने पर दर्षाऐ हैं । लेखक स्वयं ने अपने जीवन में अनेक तरह के तनाव भोगे हैं एवं उनका सामना सफलता पूर्वक किआ हैं। तनाव आधुनिक जीवनशैली एवं आधुनिक विज्ञान की देन है। बीमारियों का सबसे बड़ा कारण तनाव है। तनाव हमारी आदत में आ गया है, जीवन में घुस गया है। इसे जीतना अब सरल नहीं रहा है। यह दिखाई भी नहीं पड़ता है। मोटे तौर पर तनाव एक मानसिक स्थिति है। यह हमारे दिमाग में रहता है। तनाव हमेशा सिर से शुरू होता है। घटनाएँ सदैव तनाव का कारण नहीं है। महत्वपूर्ण यह है कि आप घटनाओं को किस रूप में लेते और उनसे प्रभावित होते हैं। घटना की व्याख्या एवं विश्लेषण से हमारा रवैया तय होता है। हमारा रवैया ही तनाव होने और नहीं होने का कारण है।
      हम तनावग्रस्त होने के कारण एवं अपनी अनेक तरह की कमजोरियों के कारण अपने विपुल ऊर्जा भण्डार का पूरा उपयोग नहीं कर पाते हैं। अदृश्य तनाव भी बन्धन है। मनोवैज्ञानिक विकलागंता शारीरिक विकलागंता की अपेक्षा बहुत हानिप्रद होती है। इस पुस्तक को पढ़ने के बाद आप परिस्थितियों एवं व्यक्तियों के प्रति अपनी प्रतिक्रिया और अनुभवों की व्याख्या को तनाव के सम्बन्ध में पहचान सकेंगे और आप तनाव के प्रभावों को कम करने में पुस्तक में वर्णित उपायों का प्रयोग कर सकेंगे।
      यह सात भागों में विभाजित हैं। पुस्तक के अन्त में 22 ऐसे लोगो के अनुभव हैं जिन्होने अपने तनाव कैसे दुर किए हैं। ये भी तनाव छोडने के अनुभूत उपाय हैं । इस तरह यह पुस्तक लेखक की अकेली न होकर 22 व्यक्यिों की भी हैं।

      Published by:
      Prabhat Prakashan
      4/19 AsafAli Road
      New Delhi-110002 (India)

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s