रोगमुक्त होने की तीन शर्ते: स्वस्थ होने की इच्छा,जीवन-लक्ष्य ( सपना )और दृष्टि

स्वस्थ होने के लिए स्वस्थ मानसिकता बहुत जरूरी है । बीमार मन को लेकर हम तन को स्वस्थ नहीं कर सकते हैं । मानसिकता को स्वस्थ बनाने हेतु प्रिय व पसंद के लोगों के बीच रहे जो आपकी ऊर्जा तन्त्र को मजबूत करें । जिनके होने से आपको सकारात्मक ऊर्जा मिले ।आपकी भावनाएं अच्छी होती हो उन लोगों के संग रहे । जिन लोगों को मिलने पर ऊर्जा खर्च होती हो, अच्छा न लगता हो, उनसे दूर रहे । ये नकारात्मक लोग आपकी घनात्मक ऊर्जा को पी जाते हैं । अतः ऐसे लोगों से दूर रहने की आवश्यकता है । अपनी कमजोरियों व दुःखों की बाते न करें । हंसते-गाते रहे ।
अपने लक्ष्य व इच्छाओं की अपनों से चर्चा करें । अपने जीने का मकसद स्पष्ट करें इससे आपको स्वस्थ होने का मार्ग खूलेगा । आपके शरीर की कोशिकाएं स्वतन्त्रता महसूस करेगी। जिससे उनमे बल उत्पन्न होगा ।
हम सब एक तरह के विचार एवं भाव में जीते है । हमारी अपनी धारणाएं है । जिनको बदलने की सख्त जरूरत है, जिसे लोथर हरनाइसे सिस्टम जम्पस कहता है । इस मनोवृति को बदलना बहुत आवश्यक है । तभी तो कहावत है कि रोग का नहीं रोगी का उपचार करो ।
रोगी में स्वस्थ होने की इच्छा, सपना और दृष्टि होनी चाहिए । उसमे जीने की, स्वस्थ होने की तमन्ना होनी चाहिए । अन्यथा कोई भी चिकित्सक चिकित्सा नहीं कर सकता है । रोगी का स्वस्थ होने का मनोबल व सहयोग आवश्यक है।

 RELATED POSTS:

ब्लड कैंसर का सामना मेरे पिताजी ने कैसे किया

थकान मिटाने हेतु हर्बल ऊर्जा पेय घर पर बनाएं

चैतन्य द्वारा , विचारों द्वारा रोगों की चिकित्सा कैसे करें ?

प्रेरक स्वास्थ्य सम्बन्धी अनमोल वचन (कैपसूल)

2 विचार “रोगमुक्त होने की तीन शर्ते: स्वस्थ होने की इच्छा,जीवन-लक्ष्य ( सपना )और दृष्टि&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s