एसीडीटी एवं जलन का रामबाण उपचार खानें का सोडा

हमारा जीवन आजकल अम्लिय हो गया है । एलोपेथिक दवाईयां लेनें से अम्लता बढती है । दूषित भोजन से व प्रदुषित वातावरण से अम्लता बढती है । अम्लता बढनें से पेट एवं गले में जलन होती है । baking sodaअम्लता बढ़ने से बड़ी-बड़ी बीमारियां होती है । स्वस्थ रहने के लिए शरीर के पी0एच0 को नियन्त्रित रखना जरूरी है ।
भूखे पेट एक चमच्च खानें का सोडा लेनें से क्षारता बढती है । जो अम्लता को नियत्रिंत करती है । अतः प्रतिदिन नाश्ते एवं भोजन से पूर्व एक चम्मच सोड़ा पानी के साथ लेना उपयोगी है ।
खानें के सोडे को सोडियम बाई कार्बोनेट कहतें है । इसे ही बेकिंग सोडा कहते है । बच्चों को पिलाया जाने वाला ग्राईपवाटर भी यहीं है । ईनो भी इसी से बनता है, लेकिन उसे स्वादिष्ट बनानें अन्य रसायन डालतें है । अतः खाध्यान्न श्रेणी का टाटा का बैकिंग सोडा लेना बेहतर है ।यह शेम्पू एवं सफाईकारक भी है । सब्जि एवं फल को प्रयोग इससे धो कर उपयोग में लेना चाहिये ।

Related posts:

यदि आप नहीं बदलते हैं तो कुछ नहीं बदलेगा

चैतन्य द्वारा , विचारों द्वारा रोगों की चिकित्सा कैसे करें ?

जोर से हंसीए , तनाव स्वत भाग जायेंगे

मानव देह का मूल्य

5 विचार “एसीडीटी एवं जलन का रामबाण उपचार खानें का सोडा&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s