जिने हेतु सिर्फ़ धन काफी नहीं ,जिने की कला चाहिए

मैं एक सत्य घटना से अपनी बात प्रारम्भ करना चाहता हूं । सन् 1923 अमेरिका में – शिकागों के एजवाटर बीच पर तब के सबसे अमीर 9 व्यापारी एकत्रित हुए। जिनका कुल जमा धन दुनिया की कुल पूंजी का 50ः से अधिक था ।
एक शोधकर्ता ने 25 वर्ष बाद उन सबकी वापस खोज की गई तब उनकी स्थिति निम्न प्रकार पाई गई ।
धनिक का नाम                                व्यवसाय                                                             25 साल बाद परिणाम
1. चाल्र्स श्वाब                             स्टील कम्पनी के मुख्यिा                                                          5 साल ऋण में रह कर मरे
2. सेम्युअल इन्सूल                    सबसे बड़ी यूटिलिटी के अध्यक्ष                                                 विदेश में दिवालिए होकर मरे
3. हार्वड हाप्सन                           सबसे बड़ी गैस कम्पनी के मुखिया                                            पागल हो गये
4. आइवर क्रुजर                           सबसे बड़ी अन्तर्राष्टीªय मैच कम्पनी के मुख्यिा                    गरीबी में मरे
5. लिआॅन फ्रेजिअर                   बैंक आॅफ इन्टरनेशनल सेटलमेन्ट के अध्यक्ष                    आत्महत्या
6. रिचार्ड व्हाटनी                         न्यूयार्क स्टोक एक्सचेन्ज के मुखिया                                        जेल से रिहा
7. आर्थर क्राॅटन                        शेयर दलाल                                                                                  गरीबी में मरे
8. जेसी लीवरमारे                         शेयर दलाल                                                                                आत्महत्या
9. अल्बर्ट फाॅल                            होर्डिंग के केबिनेट मन्त्री                                                           जेल से रिहा
इन 9 अरबपतियों में से 2 ने आत्महत्या कर ली थी । एक अरबपति पागल हो चुके थे । 2 अरबपति जेल से रिहा हुए थे एवं 4 अरबपति गरीब हो गये थे ।
अर्थात सिर्फ धन से सभी समस्याओं का समाधान नहीं किया जा सकता है । जीवन शैली से उत्पन्न समस्याओं का समाधान जीवन शैली बदल कर ही किया जा सकता है । तनाव से उत्पन्न समस्याओं का समाधान आराम करके ही किया जा सकता है । धन से आराम की सुविधाएं खरीदी जा सकती है, आराम नहीं । हम स्वयं अपने लिऐ समस्या है । महावीर ने यही कहा है कि स्वयं को बदलने से उलझने मिटाई जा सकती है । समस्याएं डर व लालच जानते है, उनको जीतकर ही उनसे पार हुआ जा सकता है ।

जीवन जीने के लिए पैसे की समझ/वित्तिय साक्षरता/जीने की कला/संयम/स्वयं का ज्ञान होना चाहिऐ । अपनी आवश्यकताओं, उपभोग, सुविधाओं, खर्च, आय की समझ होनी चाहिये । जीवन का मात्र भौतिक तल ही नही है । मानसिक तल व चेतना तल पर भी जीवन है । जीवन का अर्थ ही एक तल नहीं है । स्याद्वाद को आर्थिक क्षैत्र में भी लागू करें ।
हमारा अनुभव व समाज कहता है किThe whole thing is that  सबसे बड़ा रूपया । महावीर ने कहा नही The whole thing is that सबसे बडी Life  है । हम है हमारा जीवन है । हमारी जीवन शैली है । हमारी सहजता है । प्रकृति है ।

4 विचार “जिने हेतु सिर्फ़ धन काफी नहीं ,जिने की कला चाहिए&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s