भावनात्मक असंतुलन के संकेत पहचाने एवं EQ (भावनात्मक संतुलन)बढ़ाए

भावनात्मक असंतुलन की दशा में स्नायविक संस्थान में निम्न संकेत होते है।

  •  त्वचा जब जगे झनझनाने
  •  तन जायें जब पेशियाँ और पीड़ा करे प्रदान
  •  गर्दन जाये अकड़ जब और आये कलेजा मुँह को
  •  पत्थर-से प्रतीत होने लगें जब उदर में
  •  आन्त्रिक संस्थान में क्रिकेट
  •  आन्त्रपुच्छ का जब उखड़े मिजाज
  • उदर जब कराये हवाई सैर
  •  आये डकार जब दूसरा चैंक जायें
  •  भावावेश करे जब रक्त-धमनियों का शिकार
  •  कांकालिक पेशियाँ जब नृत्य करे

Related Posts:
भाव एवं विचार ही हमारे निर्माता हैःराॅन्डा बर्न की ‘‘द सीक्रेट’’ का सार
महिला और पुरुष की मूलभूत प्रेम आवष्यकतायें भिन्न-भिन्न होती
प्यार और घाटे के बारे में…..स्टीव जोब्स की दूसरी कहानी
भावनाओं का महत्व:आई क्यू से बढ़कर ई क्यू होता है
क्षमा कर अवचेतन के तनाव से मुक्त हो

4 विचार “भावनात्मक असंतुलन के संकेत पहचाने एवं EQ (भावनात्मक संतुलन)बढ़ाए&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s