विवाह क्या हैं?

विवाह का अर्थ विशेष उत्तरदायित्व ग्रहण करना है। यह एक शौक, मजबूरी, परम्परा, समझौता एवं बंधन नहीं है। यह स्वयं की अपूर्णताओं को पूरा करने का अवसर है। अपनी विशेषताओं को जीने व अधुरेपन को भरने का मौका है।
यह दो शरीरों को मिलन नहीं है। यह दो आत्माओं का पूर्णता की तरफ बढ़ने का मौका है। यह संस्कार से भी बढ़कर है। यह करार नहीं, प्रेम का शिखर पाने को मौका है।
यह जीवन जीने की यात्रा का अगला पड़ाव है। विवाह एक संकल्प है। विवाह में दो व्यक्ति अपनों के सम्मुख जीवन भर साथ निभाने की प्रतीज्ञा करते है।
जैसा की कहाँ जाता है कि विवाह से आपकी आँखे चार हो जाती है। इसमें आँखें ही नहीं हाथ, पाँव भी चार हो जाते है। मस्तिष्क भी दो हो जाते है जो कि ग्यारह के बराबर है।
कुछ विवाहित लोग विवाह के बारे में नकारात्मक बातें भी करते हैं। विवाह से फँस जाते है, ऐसा भी नहीं है। विवाह के बाद दुनिया मालूम पड़ती है। विवाह से जिम्मेदारियाँ जरुर बढ़ जाती है। विवाह करने वाले लड़के-लड़की गृहस्थ हो जाते है। उन्हें अपनी जिम्मेदारी स्वयं वहन करनी पड़ती है। उनका अपने परिवार की नींव विवाह से पड़ती है।
विवाह न अच्छा होता न बुरा। यह करने वाले की दृष्टि पर निर्भर है। समाज की आधारशीला विवाह है। इससे भिन्न समाज का अस्तित्व नहीं रह पाता है।
जब हम अकेले अपनी यात्रा जारी नहीं रख पाते हंै तब विवाह करना पड़ता है। विवाह अन्धें वे लगड़े को मिलकर यात्रा करने के समान है। दो अधुरे साथी मिलकर पूर्ण होते है। दो कमजोर विवाह से मजबूत बन कर उभरते है। जो व्यक्ति अकेले अपनी जिम्मेदारी लेने में समर्थ होते है वे अकेले मस्ती से रहते है। विवेकानन्द या अब्दुल कलाम जैसे व्यक्ति अकेले मस्ती से रहते भी है।

5 विचार “विवाह क्या हैं?&rdquo पर;

  1. स्त्री और पुरुष का साथ साथ रहना व सम्भोग करने की सामाजिक मान्यता का नाम विवाह है . परन्तु अब लाइव इन relationship का कानून भी बन गया है .जहाँ एक दुसरे के प्रति उतरदायित्व व जिम्मेदारी हो वह विवाह है.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s