वनस्पति घी भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है

तेलों की सेल्फ लाईफ बढ़ाने के लिए तेलों का निकल तथा हाइडाªेजन की मदद से हाइड्रोजिनेशन कर वनस्पति घी तैयार होता है। यह तेल सफेद ठोस कड़ा और देखने में घी जैसा लगता है। यह तेल अब आसानी से खराब नहीं होता इसमें होते है। केमिकल्स द्वारा परिवर्तित फैटी एसीड, ट्रांसफेट और निकिल के अवशेष होते है जो शरीर के लिए चयापचित करना कठिन है। इस पूरी प्रक्रिया में बीजों में विद्यमान वनस्पतिक तत्व , विटामिन आदि पूरी तरह नष्ट हो जाते है।

इस हेतु हाइड्रोजनीकरण को समझना जरूरी है। इसमें तेलों की सेल्फ लाइफ बढ़ाने के लिए तेलों को निकल तथा हाइड्रोजन की मदद से जमाया जाता है। इस प्रक्रिया में तेलों में से निकिल धातु की उपस्थिति में 4000 ड्रीग्री पर भारी दबाव से 8 घंटे तक हाइड्रोजन प्रवाहित की जाती है। इससे तैयार होता है निष्क्रिय एवं मृत तेल जो खराब नहीं होता है। स्वाभाविक है खराब का क्या खराब होगा। इसमें होते है केमीकल द्वारा परिवर्तित फैटी एसिड जो शरीर के लिए बिल्कुल निरर्थक है। यह तेल जिसे चयापचित करना शरीर के बस की बात नहीं है। इसमें बचता है ट्रांस फैट और निकिल के अवशेष। पूर्ण हाइड्रोजनीकरण से तेल सफेद, ठोस,कड़ा और देखने में घी जैसा लगता है। मार्जरीन और शोर्टनिंग पूर्ण हाइड्रोजनीकृत होते हैं। आंशिक हाइड्रोजनीकरण पूर्ण हाइड्रोजनीकरण से भी ज्यादा खराब होते हैं। इस पूरी प्रक्रिया में बीजों में विद्यमान कई महत्वपूर्ण और लाभददायक वनस्पतिक तत्व, विटामिन आदि पूरी तरह नष्ट हो जाते हैं।

बहुराष्ट्रीय संस्थान सभी खाद्य पदार्थों जैसे ब्रेड केक, मैगी, पास्ता, नूडल्स, बिस्कुट, चिप्स, कुरकुरे, पिज्जा, बर्गर, आइस्क्रीम, चाॅकलेट आदि में ट्रांसफैट युक्त घातक हाइड्रोजनीकृत वसा का भरपूर प्रयोग करते है। ट्रांसफैट हमारे शरीर के लिए विष है जो कई बीमारियां जैसे डायबिटीज, मोटापा, आथ्र्राइटिस, उच्च रक्तचाप , ह्नदयघात, ड्प्रेशन आदि पैदा करते हैं।

 Related Posts:

रिफाइंड तेल से ह्नदय रोग, मधुमेह व कैंसर हो सकता है? अन्तिम भाग

 वसा -अम्ल 

असाध्य रोगों का सामना कैसे करेंः उक्त पुस्तिका डाउनलोड करें

अलसीः चमत्कारी रामबाण औषधि क्यों व कैसे है ?

ऋण लेकर घी पियो और मर जाओ

 

 

 

 

5 विचार “वनस्पति घी भी स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s