होली की प्रांसगिकता और शुभकामनाएँ

आज से हजारो वर्ष पूर्व इन त्यौहारों की संरचना की गई थी। आज के समय में इनका औचित्य समझना जरुरी है। अपने त्यौहारों को खुली आँख से देखना आवश्यक है।
मनुष्य उत्सव धर्मा है। वह सदैव आनन्द और मस्ती में पसन्द करता है। होली भी आनन्द दायक त्यौहार है।
हिरण्यकश्यप् की आदेश से ं अग्नि रोधी(फायर प्रुफ ) साड़ी पहन कर अग्नि में बैठने के उपरान्त होलीका भक्त प्रहलाद को उसके सद्गुणों के कारण जला नहीं पाती, बल्कि स्वयं जल जाती है।अथार्त  नकारात्मकता सत्य को मिटा नहीं सकती है।इस तरह बुराई पर अच्छाई की विजय का यह त्यौहार है। यह पतझड़ की विदाई पर खुशियां मनाने वाला त्यौहार है। बंसत के उल्लास का त्यौहार है।
होली जलाना दहन का प्रतीक है। अपने भीतर वर्ष भर के वैमनस्य, गंदगी व ईष्या को जलाने का त्यौहार है।यह मन के मैल को धोने का त्यौहार है। गाली, गलौच कर कड़वाहट को मिठास में बदलने का मौसम है।यह भीतर छिपी गन्दगी को बाहर लाने का अवसर है। मन की शुद्धता को उज्जवल करने का मौका पैदा कराता है।
दूसरों का दिल न दुखाते हुए रंग डालने ,गंदे मजाक,हंसी उड़ाने, छेड़छाड़ करने व नंाचने गाने का त्यौहार है। इस तरह मन की भड़ास निकालने में यह त्यौहार सहायक है।
आप सबको  दिल की गहराई से होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।
Related Posts:

होली का त्योहार- वैज्ञानिक कारण भी हैं

 

अस्तित्व आपके लक्ष्यों को पुरा करने का षड्यन्त्र करे !नव वर्ष की शुभकामनाएँ

सीताराम गुप्ता का आलेख : होली – एक उत्‍सव काम और वासनाओं के बाहर आने का

 

विज्ञान के आलोक में दीपावली अभिनन्दनः अर्थ, प्रयोजन एवं सार्थकता

 

 

 

4 विचार “होली की प्रांसगिकता और शुभकामनाएँ&rdquo पर;

  1. yes Jayanti ! You rightly conclude that Holi is the festival of releasing “BHANDAS”. And what is this BHANDAS ?Our crushed DESIRES ? Our LIPSAYEN? Our VASANAYENS? and so and so..And truly this is the psychology behind the so-called BHANDAS…And truly admit ;is it not the BHANDAS which you have released through that photo which has been published at your Blog? And if it is not so; then is it a MARKETABILITY or SHOW-MANSHIP i.e. a SELLING mentality of your product, the Blog? HA HA HA…. Save from this TENDING “peet” blogship. HA HA HA……Happy Holi..all in words and spirit too………..

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s