अच्छे आदमी को क्यों कठिनाइयाँ आती हैं ?

पितामह    भीष्म  का कुरुक्षेत्र में घायल होने का क्या कारण
सच्चे व्यक्ति क्यों जीवन में कई बार  असफल होते हैं? इस प्रश्न का उत्तर मैं सीधा नहीं देना चाहता। इसकी बजाय महाभारत में भीष्म पितामह का कुरुक्षेत्र में घायल होने का कारण बताना चाहता हूँ।
भीष्म ने अपनी प्रतिज्ञा के भावार्थ पर जोर देने की बजाय शब्दों पर जोर दिया। उसे स्वयं की प्रतिष्ठा का आधार बनाया। समष्टि की तुलना में व्यक्ति के अपने हित सदैव छोटे होते है। भीष्म प्रतिज्ञा की आड़ में स्वयं को महत्व देते रहे कि कुरु साम्राज्य की सुरक्षा उनका कर्तव्य है। इस तरह उनका संभवतः सूक्ष्म रूप में अहंकार पोषित होता रहा।
भीष्म अपनी दृष्टि को व्यापक कर नहीं देखते है, जबकि उनकी प्रतिज्ञा सत्य की बलि ले रही है। उसके भाव को ग्रहण करते हुऐ न्याय का साथ उन्हें देना चाहिए। प्रतिज्ञा का मर्म काल, द्रव्य, क्षेत्र, भाव से समझना चाहिए। सत्य एवं न्याय के जीवित रहने से कुरु सामा्रज्य रहेगा। व्यक्तिगत निष्ठा की बजाय सत्य की निष्ठा सर्वोपरि होनी चाहिए। उन्हें अपनी व्यक्तिगत प्रतीज्ञा की बजाय सत्य का, धर्म का साथ देना चाहिए था।
कहने का तात्पर्य यह है कि भीष्म धर्म को पूर्ण परिपेक्ष में नहीं देख सके। उन्होंने धर्म की बजाय स्वयं की प्रतिज्ञा को अधिक महत्व दिया। इसी चूक के कारण कुरुक्षेत्र में उन्हें अर्जुन के हाथों शरशय्या पर लेटना पड़ा।
महाभारत के युद्ध में अर्जुन भी व्यक्तिगत रुप से युद्ध पसन्द नहीं करता था फिर भी गीता का उपदेश स्वधर्म से बड़ा सामाजिक हित मानकर युद्ध करने को तैयार होता है। धर्म, सत्य व न्याय के लिए लड़ने को तैयार होता है। उसका लक्ष्य विराट है। इसलिए व्यक्तिगत सम्बन्ध गौण है। तभी वह अपने पितामह पर सर संधान करने अपने रथ पर शिखण्डी को बैठा लेते है। जिस पर भीष्म वार नहीं करते है। वह अर्जुन की अनैतिकता नहीं  थी। चूंकि सामने व्यक्तिगत प्रतीज्ञाबद्ध अन्याय की सहायता भीष्म कर रहे थे।

Related Posts:

What is the Role of Luck in Getting Success ?

एक सफल और असफल व्यक्ति में क्या अन्तर है

सफलता प्राप्ति में साधनों की भूमिका

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s