अवचेतन मस्तिष्क के अज्ञान से कैसे हुई हानि ?

जब मैं प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा था, मुझे अवचेतन की शक्ति का ज्ञान नहीं था और इसका उपयोग कैसे किया जाए यह भी पता नहीं था । अनजाने ही, मैं अवचेतन मन की शक्ति का शिकार हो गया।

एक लड़की मेरी मित्र थी।  सोने से पूर्व मैं उसे याद करता था, कई बार उसे सपने में भी देखता था और इससे मेरा तनाव कुछ समय के लिए कम हो जाता था।  इस प्रकार मैं अपने अवचेतन को प्रतिदिन एक सूचना दे रहा था।  इससे मेरी उस पर निर्भरता बढ़ गई।  धीरे-धीरे वह मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण हो गई।  जब होंश से सोचता,  मैंने अनुभव किया कि सामाजिक व अन्य परिस्थितियाँ हमारे पक्ष में नहीं थीं।  अतः हमें एकदूसरे को भुला देना-चाहिये।
परन्तु, चूंकि मैं सोने से पूर्व उसे निरन्तर याद करता रहा था,  मैंने उसे कुछ अनावश्यक महत्त्व दे दिया था इस कारण मुझे काफी हानि हुई और मैं ठीक से अध्ययन नहीं कर सका।
इसलिए आप भी सावधान रहिये।  चेतन और अवचेतन के मध्य एकरूपता नहीं होने से दुविधा की स्थितियाँ बनती हंै। इससे आपकी एकाग्रता भंग होती है और कठिन कार्य करने की क्षमता एवं रूचि भी कम होती है।
अनजाने ही आपकी एकाग्रता कम होती है। मनुष्य की सबसे बड़ी विशेषता ही यह है कि उसमें चयन की क्षमता है।  विश्वासपूर्वक चयन कीजिये कि कुछ अच्छा घटित हो सकता है और वह अभी घटित हो रहा है।

Related Post:-

कैसे अवचेतन मस्तिष्क ने मुझे सहयोग किया ?

8 विचार “अवचेतन मस्तिष्क के अज्ञान से कैसे हुई हानि ?&rdquo पर;

  1. मुझे तो इस बात पर आश्चर्य लग रहा है आखिर मुझ पर ऐसा घिनौना इल्ज़ाम क्यूँ लगाया गया? मैं भला अपना नाम बदलकर किसी और नाम से क्यूँ टिपण्णी देने लगूं? खैर जब मैंने कुछ ग़लत किया ही नहीं तो फिर इस बारे में और बात न ही करूँ तो बेहतर है! आप लोगों का प्यार, विश्वास और आशीर्वाद सदा बना रहे यही चाहती हूँ!
    बहुत बढ़िया लिखा है आपने! आपकी लेखनी को सलाम!

  2. पाठकों
    नमस्कार
    प्रिय पाठकों अवचेतन नम कुछ नहीं जनता है वह कुछ भी निर्णय नहीं लेता है है उसे आप जो आदेश देंगे उसी का पालन करेगा चाहे वह गलत हो या सही
    आप अपने मस्तिक में चेतन मन के द्वारा जो सोचेंगे और उसकी तस्वीर मस्तिक में उतार लेंगे और उस तस्वीर का आदेश अवचेतन मन को देंगे ठीक वही आपको प्राप्त होगा .
    और इसमें कितना समय लगेगा यह आपकी फ्रीक्वेंसी पर आधारित है

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s